Sunday, March 27, 2011

कठमुल्लों की तडप

ऐसा सभी मानते हैं कि आप जिस प्रकार का व्यवहार दूसरों के साथ करेंगे दूसरे भी वैसा ही आपके साथ वैसा ही व्यवहार करेंगे। यह प्राकृतिक नियम है। इसका अनुपम उदाहरण अभी पाकिस्तान को प्राप्त हो गया। पाकिस्तान मे इस्लाम के अतिरिक्त अन्य धर्मावलिम्बियों के साथ सदैव ही उपेक्षापूर्ण (अपितु शत्रुतापूर्ण) व्यवहार होता आया है। कभी हिन्दु अथवा सिख अगवा कर लिए जाते हैं "ज़जिया" के लिए, तो कभी उनकी बेटियों को उठा लेते हैं और जबरन धर्म परिवर्तन कर किसी के पल्ले बांध देते हैं। और जब इन सबसे मन न भरे तो ईशनिन्दा का आरोप लगा किसी को भी जेल भिजवा देते हैं।


पाकिस्तान मे अनेक मंदिर एवं गुरुद्वारे व्यावसायिक प्रतिष्ठानों मे बदल गए हैं, तो कई अपनी पहचान खो कर कूडाघर अथवा अन्य सामुदायिक उपयोग के स्थल बन चुके हैं। पाकिस्तान मे अल्पसंख्यकों की धार्मिक मान्यता को कितना महत्वपूर्ण मानते हैं इस बात से ही मालूम पडता है। जब ये ऐसी हरकतें करते हैं तो इन्हे अपना कृत्य पौरुष का प्रदर्शन लगता है, इन्हे लगता है कि इस प्रकार ये दुनिया को अपने सामर्थ्य का परिचय दे रहे हैं।


ऐसे मे जब विरोधियों ने भी इनको इनकी भाषा मे जवाब देना प्रारम्भ किया तो इनको मिर्ची लग गई। अरे भाई जब खुद नही झेल पाते हो दूसरों की ऐसी हरकतें तो उंगली क्यों करते हो? उंगली करोगे तो कोइ न कोइ तो उंगली मरोडेगा ही।

6 comments:

  1. शठे शाठ्यम समाचरेत
    इन हरामियों को सबक जो आप सिखा रहे है मै भी साथ में हूँ

    ReplyDelete
  2. mahatmaji jab tak agyatvas me hain.......aap bhi thora doosre aham kam kar len.......

    @suryabhanji.....anuj...hum sab is 'blogwood' ke
    rahvasi ek hain so ap-shabd se apna garima na kam
    karen........

    isi munch pe pachua-pawan ne unhe 'nazarandaz' kar dene ki baat kahi thi.....jo sahi thi.....

    sadar....

    ReplyDelete
  3. मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ कि इस विज्ञान के युग में एक वैज्ञानिक सोच का व्यक्ति वेजिटेरियन है .. सलीम खान

    http://swachchhsandesh.blogspot.com/2011/04/non-veg-therealscholar.html

    इनके अनुसार पढ़ा लिखा व्यक्ति अगर मांस नहीं खाता है तो वो या तो इंसान नहीं है या पढ़ा लिखा नहीं है ...लाजवाब सोच .

    ReplyDelete
  4. आपके विचार धारदार और ब्लॉग प्रासंगिक है. कृपया इसे जारी रखें.
    सेकुलरिज्म की आड़ में चल रही राष्ट्रविरोधी और हिन्दू-द्वेषी हरकतों का प्रतिकार करने के लिए राष्ट्रवादी लेखको के साझा मंच 'आह्वान' AHWAN- Association of Hindu Writers And Nationalists की रचना की गयी है. आपसे भी निवेदन है कि 'आह्वान' से जुड़िये.
    यह समूह गूगल पर है तथा इसका लिंक है: http://groups.google.com/group/AHWAN1
    | वन्देमातरम |
    http://secular-drama.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. हिमांशु जी,
    उसकी वैज्ञानिक सोच का मतलब है जंगलीपन और क्रूरता की पढाई।
    कोई आश्चर्य नहीं कल को ये कहें विज्ञान के युग में कच्चा चीर-फाड के न खाया तो वैज्ञानिक सोच नहीं है।

    ReplyDelete